एसटीएफ और पुलिस ने जेल में छापा मारकर गैंगस्टर के कब्जे से किया मोबाइल बरामद

मामले में बैरक में तैनात दो सिपाही निलंबित, गैंगस्टर को किया दूसरे जेल में शिफ्ट

 हरिद्वार के जिला कारागार में बंद गैंगेस्टर द्वारा दिल्ली के बड़े सर्राफा कारोबारी से रंगदारी मांगे जाने की सूचना के बाद हरकत में आई एसटीएफ और पुलिस ने रविवार को जेल में छापा मारकर गैंगस्टर के कब्जे से मोबाइल फोन सहित आपत्तिजनक चीेजे बरामद की है। जेल आईजी ने मामले मे जेल बैरक में तैनात दो सिपाहियों को भी निलम्बित करते हुए जांच के आदेश दे दिए है। दूसरी ओर जेल से रंगदारी माॅगने वाले गैंगस्टर को हरिद्वार से टिहरी जेल भेजने की कारवाई शुरू कर दी है। मामले में आरोपी गैंगस्टर के खिलाफ सिडकुल थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। बताते चले कि कोतवाली ज्वालापुर पुलिस ने ज्वालापुर कोतवाली पुलिस ने पिछले दिनों एक करोड़ की धोखाधड़ी के आरोप में दिल्ली निवासी सर्राफा कारोबारी वैभव बंसल निवासी हुडड्ा मार्केट सैक्टर 46 गुरूग्राम हरियाणा को गिरफ्तार किया था। गिरफ्रतार के बाद वैभव को जेल भेज दिया गया। आरोप है कि पहले से जेल में बंद गैगेस्टर इंतजार पहलवान उर्फ भूरा ने वैभव को धमकाया कि अपने घर से पैसे मंगाए, लेकिन जब वैभव ने उसकी बात से इनकार कर दिया तो भूरा ने उसके घर कॉल कर रंगदारी मांगी। वैभव ने इसकी शिकायत जेल प्रशासन से की और मामले से परिजनो को अवगत कराया। वैभव के परिजनों ने गैंगस्टर इतजार उर्फ भूरा पहलवान के बार में उत्तराखण्ड पुलिस को अवगत कराने के बाद एसटीएफ उत्तराखंड और हरिद्वार पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों की एक टीम ने जेल में छापेमारी की और मोबाइल बरामद किया। जेल मोबाइल पर कैदी के परिवार से रंगदारी मांगने के मामले में आइजी जेल एसपी अशुमान ने जिला कारागार के इतजार उर्फ भूरा पहलवान की बैरक में तैनात दो वार्डन सुनील तोमर और देशराज सिंह को संस्पेंड कर दिया है। वहीं, रंगदारी मांगने वाला गैंगस्टर इंतजार उर्फ भूरा को हरिद्वार कारागार से टिहरी जेल भेज दिया है। प्रभारी जेल अधीक्षक एसएम सिंह ने बताया कि तलाशी के दौरान एक मोबाइल फोन बरामद हुआ है। फिलहाल, सिडकुल थाने में आरोपित इंतजार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जा रहा है।  वही पूछताछ के दौरान इंतजार पहलवान तथा नावेद आलम द्वारा बताये गये स्थान पर सोने की चैन करीब डेढ लाख की लेकर जाने हेतु वैभव की पत्नी को विश्वास में लेकर बताए गए स्थान पर भेजा गया। वहां पर साहिल अली जो कि बाइक मेैकेनिक है और नावेद आलम का दोस्त है,जिसे एसटीएफ और पुलिस ने वैभव की पत्नी से चेन लेते हुए गिरफ्रतार कर लिया। इसके बाद नावेद आलम ने परवेज आलम को साहिल से चेन लेने भेजा था,परवेज आलम जो कि नावेद आलम का भाई है,इसे भी एसटीएफ और पुलिस ने गिरफ्रतार कर लिया। मामले में पुलिस और एसटीएफ ने दो मोबाइल,दो सिम और एक मोबाईल चार्जर बरामद किया है।


Popular posts from this blog

कोरोना ब्रेकिंग: उत्तराखंड में आज तक का सबसे बड़ा आंकड़ा 501 कोरोना संक्रमित मिले और 232 मरीज ठीक हुए, हरिद्वार में 171 नये केस मिले

निर्मला छावनी हरिद्वार मे कुंभमेला फंड से बनाया जा रहा रेलवे पुल आमजन के लिए सुविधा कम और कठिनाई ज्यादा पैदा करेगा, जानें पूरी खबर

जिलाधिकारी कार्यालय में सफाई कर्मचारियों के हितों को लेकर 22 बिंदुओं पर चर्चा