हरिद्वार की खबरें -- अखाड़ा परिषद की मांग 2010 की तर्ज पर हो भव्य व दिव्य कुम्भ


सरकार सहयोग नही करती तो अखाड़े अपने संसाधनों से दिव्य-भव्य कुम्भ मनायेंगे-अध्यक्ष

 अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने हरिद्वार कुंभ की तैयारी ना होने पर नाराजगी जताई है। परिषद की केंद्रीय कार्यकारिणी की बैठक में सरकार से 2010 कुंभ की तरह इस बार भी हरिद्वार कुंभ की व्यवस्था करने को कहा गया है। साथ ही चेतावनी भी दी गई है कि अगर सरकार ने कुंभ करने की दिशा में अपने स्तर पर व्यवस्था नहीं की, तो आश्रम और अखाड़े अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के नेतृत्व में यह व्यवस्था खुद कर लेंगे। कनखल स्थित श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन में कुंभ मेले को लेकर संपन्न हुई अखाड़ा परिषद की बैठक में संतों ने निर्णय लिया है कि यदि सरकार सहयोग नहीं करती है तो अखाड़े व संत समाज अपने संसाधनों से कुंभ को दिव्य व भव्य रूप से संपन्न कराएंगे। बैठक के दौरान मेला अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को एक पत्र भी प्रेषित किया गया। बैठक के बाद पत्रकारों को बैठक में लिए निर्णय की जानकारी देते हुए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री महंत नरेंद्र गिरि और राष्ट्रीय महामंत्री श्री महंत हरि गिरि ने स्पष्ट रूप से कहा कि हरिद्वार कुंभ अपनी पूरी शान और शौकत के साथ होगा। सरकार चाहे इसमें सहयोग करें या ना करें। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के नाम पर केवल धार्मिक आयोजनों पर ही कुदृष्टि डाली जा रही है जबकि राजनीतिक आयोजन धड़ल्ले से किए जा रहे हैं। चुनावी रैलियां हो रही हैं और सभाएं की जा रही हैं। नए साल के जश्न के लिए हर पहाड़ी पर्यटक स्थल भरा हुआ है। होटल तक सभी भरे हुए हैं। ऐसे आयोजनों पर रोक नहीं लग रही लेकिन धार्मिक आयोजनों पर पाबंदी लगा दी जा रही है। कहा रोजाना समाचार पत्रों में कोरोना संक्रमण के कम होने के समाचार आ रहे हैं, लेकिन कुंभ की तैयारियों को लेकर कोई तेजी नहीं दिखाई जा रही। अखाड़ों से जुड़े जगद्गुरू, धर्माचार्य, शंकराचार्य, महामण्डलेश्वर, रामानंदाचार्यो सहित संत महापुरूष कुंभ स्नान के लिए हरिद्वार आएंगे। जिस प्रकार कुंभ मेले के दौरान संतों के शिविर लगते रहे हैं। उसी प्रकार शिविर भी लगाए जाएंगे। कुंभ पूरी भव्यता के साथ संपन्न कराया जाएगा। सरकार व मेला प्रशासन शिविरों के लिए भूमि आवंटन व सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए तत्काल काम शुरू करे। उन्होंने कहा कि यदि सरकार व मेला प्रशासन सुविधाएं उपलब्ध नहीं कराता है तो अखाड़े अपने संसाधनों के बल पर सभी व्यवस्थाएं करेंगे। वैष्णव अखाड़ों के संबंध में उन्होंने कहा कि बैरागी अखाड़ों के शिविर हमेशा की तरह बैरागी कैंप में ही लगेंगे। अखाड़ा परिषद अध्यक्ष ने कहा कि यदि राज्य सरकार संतों की मांग नहीं मानती है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात कर हरिद्वार कुंभ को दिव्य व भव्य रूप से संपन्न कराने की मांग की जाएगी। अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरी महाराज ने कहा कि यदि सरकार अखाड़ों का सहयोग नहीं करती है तो 4 जनवरी के बाद अखाड़े अपने स्तर पर तैयारियां शुरू कर देंगे। अपने खर्च पर शिविरों के लिए भूमि का समतलीकरण, पेयजल, विद्युत, सीवर आदि तमाम व्यवस्थाएं करेंगे। जिन्हें मेला संपन्न होने के बाद जनहित में उपयोग के लिए छोड़ दिया जाएगा। बीस फरवरी के बाद यदि कोरोना अधिक बढ़ता है तो सरकार की गाईड लाईन का पालन किया जाएगा। यह भी कहा गया कि सरकार अगर कुंभ मेले के आयोजन के लिए कोई सीख लेना चाहती है तो वह एक जनवरी के बाद प्रयागराज माघ मेले की व्यवस्थाओं को देखने के लिए जाए। मेला अधिष्ठान के अधिकारियों को भेजें जिससे मेले की तैयारी के बारे में पता चल सकेगा। बैठक में श्रीमहंत रविन्द्रपुरी, महंत जसविन्दर सिंह, श्रीमहंत सत्यगिरी, श्रीमहंत साधनानंद, महंत दामोदरदास, महंत रामशरणदास, महंत गौरीशंकर दास, महंत रविन्द्रपुरी, महंत मंगलदास, महंत रामकुमार दास, महंत मनीष दास, श्रीमहंत नारायण गिरी, श्रीमहंत प्रेम गिरी आदि संत मौजूद रहे। 

प्रदेश में बेटियां सुरक्षित नही,अपराधियों को मिल रहा सत्ता का संरक्षण-प्रीतम सिंह

मासूम के साथ दुराचार,हत्या के विरोध में आयोजित कांग्रेस की ओर से धरना में हुये शामिल कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुरानी कचहरी के समक्ष धरने का आयोजन कर नगर कोतवाली क्षेत्र में अबोध बालिका के साथ अनाचार व हत्या पर आक्रोश प्रकट करते हुए फरार आरोपी की तत्काल गिरफ्तारी व दोषियों को फांसी की सजा दिए जाने की मांग की। धरने को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि प्रदेश में बेटियां सुरक्षित नहीं है। अपराधियों में कानून का कोई भय नहीं है। अपराधी कानून को धत्ता बताकर नित नए अपराध कर रहे हैं। प्रीतम सिंह ने आरोप लगाया कि अपराधियों को सत्ता का संरक्षण मिल रहा है। सत्तारूढ़ पार्टी उन्हें वकील तक उपलब्ध करा रही है। चाहे देहरादून के विधायक महेश नेगी कांड हो या अन्य घटनाएं, सभी अपराधी खुले घूम रहे हैं। सुबे के मुख्यमंत्री इस पर मौन साधे हुए हैं। जब कांग्रेस ने विधानसभा में मामला उठाया तो अपराधी पर एक लाख का इनाम घोषित करके इतिश्री कर ली गयी। प्रदेश में भ्रष्टाचार व अपराध चरम पर है।  धर्मनगरी हरिद्वार में नशे का कारोबार फल-फूल रहा है। उन्होंने कहा कि नाबलिग बालिका के साथ हुए रेप व हत्याा के केस की सीबीआई जांच हो तो पता चल जाएगा जिस मकान को बैंक ने सील कर रखा था। वहां पर इतना बड़ा काण्ड कैसे हुआ। इसके पीछे किसका संरक्षण है। यह सब जांच में सामने आ जाएगा। उन्होंने कहा शनिवार को कांग्रेस कार्यकर्ता पूरे उत्तराखंड में कैंडल मार्च निकालकर विरोध प्रकट करेंगे। जब तक केस की परते नहीं खुलती तथा अपराधी नहीं पकडे़ जाते चुप नहीं बैठेंगे। पूर्व गृह मंत्री राम सिंह सैनी तथा प्रदेश महासचिव डा.संजय पालीवाल ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय नेता भारी संख्या में भीड़ के साथ रोड़ शो पर निकलते हैं तो उन पर कोई मुकदमा दर्ज नहीं होता। लेकिन दुष्कर्म व हत्या का शिकार हुई बालिका के साथ हुई घटना के विरोध में कैंडल मार्च निकाल रहे शहर के लोगों पर केस दर्ज करने का कार्य स्थानीय प्रशासन किसके इशारे पर कर रहा है। इसकी भी जांच होनी चाहिए। महानगर अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने कहा कि सरकार चाहे जितने मुकद्मे दर्ज कर ले। धरने को प्रदेश महामंत्री विजय सारस्वत, पूर्व विधायक रामयश सिंह, विनय सारस्वत, महिला अध्यक्ष विमला पांडे, डा.संतोष चैहान, आर्येन्द्र शर्मा, अमरीश कुमार, सतपाल ब्रह्मचारी, मेयर अनीता शर्मा, विधायक ममता राकेश, धर्मपाल सिंह ग्रा.अध्यक्ष, पूर्व विधायक राजकुमार, हाजी नईम कुरैशी, सनव्वनवर अली, मोहित उनियाल, रोशन लाल, हरेंद्र शर्मा, प्रताप सिंह, मकबूल कुरेशी, अशोक शर्मा, फुरकान अली, परवेज आलम, नरेंद्र गुर्जर, तेलुराम प्रधान, सत्येंद्र प्रधान, कीरत सिंह प्रधान, रश्मि चैधरी, जटाशंकर श्रीवास्तव, पूनम भगत, विकास चैधरी, अमरदीप रोशन, रवि बहादुर, अनिल भास्कर, रवीश भटीजा, यशवंत सैनी, शुभम अग्रवाल, रवि कश्यप, शैलेंद्र सिंह, गुलबीर सिंह, कैलाश प्रधान, विनोद कुमार, जयेंद्र रमोला, हिमांशु बिल्जिवाण, सुनील कुमार, प्रदीप अग्रवाल, नीशा शर्मा, नीलम शर्मा, गार्गी राय, राम विशालदेव, गौरव चैधरी, सुरेंद्र शर्मा, साधु राम चैहान, रेनू नौटियाल, पार्षद शहाबुद्दीन, तहसीन, राजीव भार्गव ,अमन गर्ग, सोहेल अख्तर, मेहरबान खान, इसरार, शाहनवाज कुरेशी, सेठपाल परमार, देवेश शर्मा, सतीश कुमार, दीपक सैनी, राजवीर चैहान, विकास सिंह, सहदेव सिंह, फुरकान अली, अरविंद शर्मा एडवोकेट, मुरली मनोहर, पुरषोत्तम शर्मा, पुनीत कुमार पार्षद, जफर अब्बासी, महावीर वशिष्ठ, कैलाश भट्ट, जयपाल सैनी, नत्थू सिंह, अरुण चैहान, कलीम खान, चैहान, राजपाल सिंह, जितेंद्र सिंह पवार, यशपाल राणा, दिनेश कौशिक, श्याम सिंह, एसपी सिंह इंजीनियर, गार्गी राय, बलराम राठौर, रोहतास सैनी, चै.बलजीत सिंह, जगत सिंह रावत, मेहर सिंह, रश्मि चैधरी आदि ने भी संबोधित किया।

कार्यकत्र्ताओं संग पैदल मार्च निकालकर मेयर ने जताया रोष

 कार्यकर्ताओं ने राज्य सरकार और पुलिस प्रशासन के खिलाफ काले झंडे लेकर पैदल मार्च निकाला। नगर निगम परिसर से सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय तक मार्च निकालकर रोष जताया गया। मेयर अनिता शर्मा ने कहा कि मासूम से दरिंदगी कर उसकी हत्या करने वाला आरोपी फरार है। लेकिन पुलिस उसे पकड़ने की जगह स्थानीय लोगों पर मुकदमे दर्ज कर रही है। भाजपा सरकार में अब न्याय मांगना भी अपराध बन गया है। मेयर प्रतिनिधि अशोक शर्मा ने कहा कि एक कैबिनेट मंत्री की विधानसभा क्षेत्र में जघन्य अपराध हुआ है। जनता न्याय के लिए सड़क पर उतरती है तो जनता के खिलाफ ही मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं। यह धर्मनगरी के लिए बहुत ही शर्मनाक है। मार्च निकालने वालों में मनोज जाटव जेपी सिंह, नकुल माहेश्वरी, तिरपाल शर्मा, जगदीप असवाल, वसीम सलमानी, रजत जैन, हरीश शेरी, संगम शर्मा, सुमित, सुरेंद्र सैनी, अकरम, विवेक भूषण, हाजी शाहबुद्दीनआ अंसारी, तहसीन अंसारी, ताहिर आदि आदि शामिल रहे।


 

Popular posts from this blog

निर्मला छावनी हरिद्वार मे कुंभमेला फंड से बनाया जा रहा रेलवे पुल आमजन के लिए सुविधा कम और कठिनाई ज्यादा पैदा करेगा, जानें पूरी खबर

हरिद्वार की बड़ी खबर: जनपद के 16 दरोगाओ के कार्यक्षेत्र बदले और कई चौकी प्रभारी भी बदल गए, देखें पूरी खबर

कोरोना ब्रेकिंग: उत्तराखंड में आज कोरोना बम फूटा, 946 नए मरीज मिले देखें पूरी खबर