अब हरिद्वार के होटल, धर्मशालाओ में कौन लोग ठहर सकेंगे ?

अस्थि विसर्जन करने आने वाले लोग अब 24 घंटे हरिद्वार ठहर सकेंगे वह भी दो व्यक्ति  और एक चालक


 अस्थि विसर्जन के लिए आने वाले लोगों को प्रशासन ने राहत दे दी है। पहले चार घण्टे की अनुमति के सापेक्ष अब तीन लोगों के साथ चैबीस घण्टें हरिद्वार में रूक सकेंगे। इस संबंध में जिलाधिकारी सी रविशंकर ने बीती रात आदेश जारी कर दिए। आदेश के अनसार हरिद्वार आने वाले यात्रियों को होटल, धर्मशालाओं में 24 घंटे तक रह सकेगे। इससे अधिक रहने पर यात्री को होटल में ही 7 दिन तक क्वारंटाइन रहना होगा। लेकिन शर्त अब भी यथावत रखी गयी है कि यात्री सार्वजनिक स्थल पर घूम नहीं सकेगा। इस मामले में होटल एशोसिएशन ने कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक और जिलाधिकारी को होटल खोलने के लिए मांग पत्र सौंपा था। हरिद्वार में अस्थि विसर्जन और अन्य कर्मकांड को लेकर पहुंचने वाले लोगों के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। नारसन बार्डर से हरिद्वार में चार से छह घंटे तक रुकने की अनुमति दी जा रही थी। इस कारण यात्री के साथ ही व्यापारियों को भी दिक्कतें हो रही थी। शनिवार रात को जिलाधिकारी के आदेश जारी किये गये है। नए आदेशों के मुताबिक हरिद्वार में अस्थि विजर्सन के लिए बाहर से आने वाले लोगों को 24 घंटे होटल, लॉज, धर्मशाला में रहने का अधिकार दिया गया है। यात्री को क्वारंटाइन नहीं किया जाएगा। जबकि होटल, धर्मशालाओं वालों को सख्त आदेश दिया गया है कि ठहरने वाले लोगों का डाटा सुरक्षित रखना होगा। अस्थि विसर्जन को आने वाले दो लोगों के साथ एक चालक को रहने की अनुमति ही दी गई है। इसके अलावा और कोई यात्री नहीं रुक सकेगा। आदेश आने के बाद होटल एसोसिएशन के लोगों ने जिलाधिकारी के आदेशों का स्वागत किया है। एसोसिएशन के अध्यक्ष आशुतोष शर्मा का कहना है कि यात्रियों को दिक्क्तें हो रही थी। एसोसिएशन ने अपनी बात सरकार के समक्ष रखी थी। नियमों का पालन कर यात्रियों को कमरे उपलब्ध कराय जाएंगे। स्वागत करने वालों में संजय अग्रवाल, संदीप अग्रवाल, दीपक कपूर समेत कई होटल कारोबारी शामिल रहे।


Popular posts from this blog

पंच नाम जूना अखाड़े की शाही पेशवाई मे भव्य झाँकियों, बैंड बाजों और हेलीकॉप्टर से फूल बरसाए

पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए किसान कांग्रेस ने निकाला कैंडल मार्च

महानगर व्यापार मंडल मैं कुनबा बढ़ाया