एम्स ने किया खंडन

 



मरीजो की देखभाल में स्टाफ कर्मी हुआ बीमार 
(सुनील पांंडे)


                          अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के निदेशक एवं सीईओ पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने कहा कि कोविड 19 के संक्रमणकाल में भी एम्स ऋषिकेश कोरोना वायरस के अलावा अन्य तरह के गंभीर मरीजों को भी चिकित्सकीय सेवाएं दे रहा है। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमित रोगियों से उनकी सेवा में जुटे नर्सिंग स्टाफ को संक्रमण हुआ है न कि एम्स स्टाफ से कोई मरीज संक्रमित हुआ है। लिहाजा हमें ऐसे कठिन दौर में सेवा में जुटे सिपाहियों को प्रोत्साहित करना चाहिए।                                 एम्स निदेशक प्रो.रवि कांत जी ने बताया कि संस्थान में हल्द्वानी के ब्रेन स्ट्रोक से ग्रसित मरीज को उपचार के लिए लाया गया था, जो कि कोविड संक्रमित था, लिहाजा मरीज की सेवा में लगे नर्सिग स्टाफ को कोरोना संक्रमण हो गया। इसी प्रकार रुडकी से आए किडनी व कैंसर ग्रसित गंभीर रोगी को एम्स में उपचार दिया गया। निदेशक ने बताया कि यह जानते हुए भी कि उक्त दोनों इलाके कोरोना के हॉट स्पॉट में आते हैं बावजूद इसके संस्थान में गंभीर रोगियों को उपचार के लिए भर्ती किया गया। दोनों मरीजों के कोरोना संक्रमित होने से उनसे नर्सिग ऑफिसर्स में संक्रमण हुआ है। उन्होंने बताया कि कोविड19 के विश्वव्यापी प्रकोप के इस गंभीर हालात में भी मरीजों की चिकित्सा सहायता को तत्पर ऐसे सिपाहियों को हमें प्रोत्साहित करना चाहिए। न कि उन्हें कोरोना फैलाने के लिए जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। ऐसे लोगों को कठिन परिस्थितियों में संस्थान व संस्थान कर्मियों के चिकित्सा सेवा के योगदान को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।


Popular posts from this blog

कोरोना ब्रेकिंग: उत्तराखंड में आज तक का सबसे बड़ा आंकड़ा 501 कोरोना संक्रमित मिले और 232 मरीज ठीक हुए, हरिद्वार में 171 नये केस मिले

निर्मला छावनी हरिद्वार मे कुंभमेला फंड से बनाया जा रहा रेलवे पुल आमजन के लिए सुविधा कम और कठिनाई ज्यादा पैदा करेगा, जानें पूरी खबर

जिलाधिकारी कार्यालय में सफाई कर्मचारियों के हितों को लेकर 22 बिंदुओं पर चर्चा